जानिए गिलोय किन-किन बीमारियों के लिए हैं फायदेमंद

जानिए गिलोय किन-किन बीमारियों के लिए हैं फायदेमंद

बिमारियां और उपचार

 

गिलोय डायबिटीज,कब्ज़ और पीलिया समेत कई गंभीर बीमारियों के इलाज में फायदेमंद है। गिलोय या गुडूची के गुणों के कारण ही आयुर्वेद में इसका नाम अमृता रखा गया है जिसका मतलब है कि यह औषधि बिल्कुल अमृत समान है। पाचन संबंधी रोगों के अलावा गिलोय सांस संबंधी रोगों जैसे कि अस्थमा और खांसी से भी आराम दिलाने में काफी फायदेमंद है।

गिलोय क्या हैं?

जानिए गिलोय किन-किन बीमारियों के लिए हैं फायदेमंद

गिलोय एक प्रकार की बेल है जो आमतौर पर जगंलों-झाड़ियों में पाई जाती है।इसकी पत्तियों का आकार पान के पत्तों के जैसा होता है और इनका रंग गाढ़ा हरा होता है। गिलोय को सजावटी पौधे के रुप में भी अपने घरों में लगा सकते हैं।गिलोय को गुडूची,अमृता आदि नामों से भी जाना जाता है। गिलोय की बेल जिस पेड़ पर चढ़ती है उसके गुणों को भी अपने अंदर समाहित कर लेती है, इसलिए नीम के पेड़ पर चढ़ी गिलोय की बेल को औषधि के लिहाज से सर्वोत्तम माना जाता है। इसे नीम गिलोय के नाम से भी जाना जाता है।

गिलोय क्यों बीमारियों के लिए फायदेमंद हैं?

गिलोय में गिलोइन नामक ग्लूकोसाइड और टीनोस्पोरिन, पामेरिन एवं टीनोस्पोरिक एसिड पाया जाता है। इसके अलावा गिलोय में कॉपर, आयरन, फॉस्फोरस, जिंक,कैल्शियम और मैगनीज भी प्रचुर मात्रा में मिलते हैं। गिलोय की पत्तियां, जड़ें और तना तीनो ही भाग सेहत के लिए बहुत गुणकारी हैं लेकिन बीमारियों के इलाज में सबसे ज्यादा उपयोग गिलोय के तने या डंठल का ही होता है। गिलोय में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं साथ ही इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और कैंसर रोधी गुण होते हैं। इन्हीं गुणों की वजह से यह बुखार, पीलिया, गठिया, डायबिटीज, कब्ज़, एसिडिटी, अपच, मूत्र संबंधी रोगों आदि से आराम दिलाती है। बहुत कम औषधियां ऐसी होती हैं जो वात, पित्त और कफ तीनो को नियंत्रित करती हैं, गिलोय उनमें से एक है। गिलोय का मुख्य प्रभाव टॉक्सिन विषैले हानिकारक पदार्थ पर पड़ता है और यह हानिकारक टॉक्सिन से जुड़े रोगों को ठीक करने में असरदार भूमिका निभाती है।इसलिए गिलोय बीमारियों में फायदेमंद हैं।

 

जानिए गिलोय किन-किन बीमारियों के लिए हैं फायदेमंद

1.गिलोय डायबिटीज में हैं फायदेमंद-

डाईबेटिस में फायदेमंद गिलोय

डायबिटीज में गिलोय हाइपोग्लाईसेमिक एजेंट की तरह काम करती है और टाइप-2 डायबिटीज को नियंत्रित रखने में असरदार भूमिका निभाती है। गिलोय जूस ब्लड शुगर के बढे स्तर को कम करती है, इन्सुलिन का स्राव बढ़ाती है और इन्सुलिन रेजिस्टेंस को कम करती है। इस तरह यह डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत उपयोगी औषधि है।

2.गिलोय डेंगू में फायदेमंद-

गिलोय डेंगू में फायदेमंद

डेंगू से बचने के घरेलू उपाय के रुप में गिलोय का सेवन करना सबसे ज्यादा प्रचलित है। डेंगू के दौरान मरीज को तेज बुखार होने लगते हैं। गिलोय में मौजूद एंटीपायरेटिक गुण बुखार को जल्दी ठीक करते हैं साथ ही यह इम्युनिटी बूस्टर की तरह काम करती है जिससे डेंगू से जल्दी आराम मिलता है।

3.गिलोय से अपच की समस्या का समाधान-

गिलोय से अपच की समस्या का समाधान-

अपच में अगर आप पाचन संबंधी समस्याओं जैसे कि कब्ज़, एसिडिटी या अपच से परेशान रहते हैं तो गिलोय आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकती है। गिलोय का काढ़ा, पेट की कई बीमारियों को दूर रखता है। इसलिए कब्ज़ और अपच से छुटकारा पाने के लिए गिलोय का रोजाना सेवन करें।

4.गिलोय से खांसी में आराम-

गिलोय से खांसी में आराम-

खांसी में अगर कई दिनों से आपकी खांसी ठीक नहीं हो रही है तो गिलोय का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है। गिलोय में एंटीएलर्जिक गुण होने के कारण यह खांसी से जल्दी आराम दिलाती है। खांसी दूर करने के लिए गिलोय के काढ़े का सेवन करें।

5.गिलोय बुखार में फायदेमंद-

गिलोय बुखार में फायदेमंद-

बुखार में गिलोय या गुडूची में ऐसे एंटीपायरेटिक गुण होते हैं जो पुराने से पुराने बुखार को भी ठीक कर देती है। इसी वजह से मलेरिया, डेंगू और स्वाइन फ्लू जैसे गंभीर रोगों में होने वाले बुखार से आराम दिलाने के लिए गिलोय के सेवन की सलाह दी जाती है।

6.गिलोय पीलिया में फायदेमंद-

पीलिया में पीलिया के मरीजों को गिलोय के ताजे पत्तों का रस पिलाने से पीलिया जल्दी ठीक होता है। इसके अलावा गिलोय के सेवन से पीलिया में होने वाले बुखार और दर्द से भी आराम मिलता है। गिलोय स्वरस के अलावा आप पीलिया से निजात पाने के लिए गिलोय सत्व का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

7.गिलोय एनीमिया में फायदेमंद-

गिलोय एनीमिया में फायदेमंद-

एनीमिया में शरीर में खून की कमी होने से कई तरह के रोग होने लगते हैं जिनमें एनीमिया सबसे प्रमुख है। आमतौर पर महिलायें एनीमिया से ज्यादा पीड़ित रहती हैं। एनीमिया से पीड़ित महिलाओं के लिए गिलोय का रस काफी फायदेमंद है। गिलोय का रस का सेवन शरीर में खून की कमी को दूर करती है और इम्युनिटी क्षमता को मजबूत बनाती है।

ये भी पढ़े :-जानिए एनीमिया क्या है ?इसके लक्ष्ण ,कारण और उपचार

8.गिलोय त्वचा के लिए फायदेमंद-

गिलोय त्वचा के लिए फायदेमंद-

त्वचा रोगों में गिलोय त्वचा संबंधी रोगों और एलर्जी को दूर करने में भी सहायक है। अर्टिकेरिया में त्वचा पर होने वाले चकत्ते हों या चेहरे पर निकलने वाले कील मुंहासे, गिलोय इन सबको ठीक करने में मदद करती है।

9.गिलोय से गठिया में आराम-

गिलोय से गठिया में आराम-

गठिया में गिलोय में एंटी-आर्थराइटिक गुण होते हैं। इन्हीं गुणों के कारण गिलोय गठिया से आराम दिलाने में कारगर होती है। खासतौर पर जो लोग जोड़ों के दर्द से परेशान रहते हैं उनके लिए गिलोय का सेवन करना काफी फायदेमंद रहता है।

10.गिलोय से अस्थमा में आराम-

गिलोय से अस्थमा में आराम-

अस्थमा में गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होने के कारण यह सांसो से संबंधित रोगों से आराम दिलाने में प्रभावशाली है। गिलोय या गुडूची कफ को नियंत्रित करती है साथ ही साथ इम्युनिटी पॉवर को बढ़ाती है जिससे अस्थमा और खांसी जैसे रोगों से बचाव होता है और फेफड़े स्वस्थ रहते हैं।

11.गिलोय लीवर सम्बंधित बीमारियों में फायदेमंद-

गिलोय लीवर सम्बंधित बीमारियों में फायदेमंद-

लीवर के रोगों में अधिक शराब का सेवन लीवर को कई तरीकों से नुकसान पहुंचाता है। ऐसे में गुडूची सत्व या गिलोय सत्व का सेवन लीवर के लिए टॉनिक की तरह काम करती है। यह खून को साफ़ करती है और एंटीऑक्सीडेंट एंजाइम का स्तर बढ़ाती है। इस तरह यह लीवर के कार्यभार को कम करती है और लीवर को स्वस्थ रखती है। गिलोय के नियमित सेवन से लीवर संबंधी गंभीर रोगों से बचाव होता है।

ये भी पढ़े :-रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये और कोरोना वायरस को भगाएं

12.गिलोय शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने में फायदेमंद-

गिलोय शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने में फायदेमंद

 बीमारियों को दूर करने के अलावा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना भी गिलोय के फायदे में शामिल है। गिलोय सत्व या गिलोय जूस का नियमित सेवन शरीर की इम्युनिटी पॉवर को बढ़ता है जिससे सर्दी-जुकाम समेत कई तरह की संक्रामक बीमारियों से बचाव होता है।

इस लेख में गिलोय किन-किन बीमारियों के लिए हैं फायदेमंद और गिलोय के बारे में बेहतर जानकारी देने की कोशिश की गई हैं आशा करते हैं ये जानकारी आपके लिए फायदेमंद हो और आपका जीवन सुखी व हेल्दी रहें।इसी तरह स्वास्थ्य सम्बंधित नई-नई जानकारियों के लिए INDIAN हेल्थ गुरु को सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of